लॉकडाउन भी नहीं डाल पाया प्रैक्टिस में अड़ंगा, इस खिलाडी ने घर के गैराज को ही बदल दिया स्विमिंग पूल में – cgtop36.com | Cgtop36 Chhattisgarh exclusive news web portal
खेल जगत

लॉकडाउन भी नहीं डाल पाया प्रैक्टिस में अड़ंगा, इस खिलाडी ने घर के गैराज को ही बदल दिया स्विमिंग पूल में

दो बार के ओलंपिक चैंपियन एलिस्टेयर एडवर्ड ब्राउनली (Alistair Edward Brownlee) ने एक बार फिर साबित कर दी है। एलिस्टेयर 2012 लंदन ओलंपिक और 2016 रियो ओलंपिक में ट्रॉयथलान इवेंट में इंग्लैंड के लिए गोल्ड मेडल जीत चुके हैं। वे 2020 टोक्यो ओलंपिक में भी पदक जीतने के तगड़े दावेदारों में से एक हैं। कोरोनावायरस के कारण इस साल जुलाई में होने वाले टोक्यो ओलंपिक को एक साल के लिए टाल दिया गया है। अब ये 2021 में होंगे। हालांकि, इन्हें 2020 ओलंपिक के नाम से ही जाना जाएगा।

कोरोनावायरस के कारण दुनिया के 200 से ज्यादा देशों में लॉकडाउन हैं। सभी खेल गतिविधियां ठप हैं। चूंकि अगले साल ओलंपिक की डेट्स आ गईं हैं, ऐसे में खिलाड़ियों को तैयारी भी करनी है, लेकिन लॉकडाउन के कारण वे अपने-अपने घरों पर ही रहने को मजबूर हैं। हालांकि, इंग्लैंड के इस एथलीट ने लॉकडाउन को मात दे दी। उन्होंने अपने घर के गैराज को ही स्विमिंग पूल में बदल दिया। 31 साल के एलिस्टेयर लॉकडाउन से पहले ही लीड्स स्थित अपने घर पहुंच चुके थे। लॉकडाउन के कारण प्रैक्टिस में व्यवधान पड़ता देख वे इससे निपटने का उपाय खोज रहे थे, तभी उनके मन में यह शानदार विचार आया।

गैराज को स्विमिंग पूल में बदलने के बाद लॉकडाउन होने के बावजूद वे अपने तैराकी प्रशिक्षण को जारी रख सकते हैं। एलिस्टेयर और उनके 29 साल के भाई जॉनी इस सप्ताह के अंत में बरमूडा में होने वाले आईटीयू वर्ल्ड ट्रायथलॉन सीरीज और ओलंपिक क्वालिफायर में हिस्सा लेने वाले थे। भले ही टोक्यो ओलंपिक को अगले तक टाल दिया गया हो, लेकिन एलिस्टेयर की लगन को देखकर कहा जा सकता है कि वे अपना तीसरा ओलंपिक गोल्ड जीतने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ना चाहते।

एलिस्टेयर ने कहा, ‘मैं केवल वही कर रहा हूं जो मैं कर सकता हूं। मैंने सभी दिशा-निर्देशों का सम्मान करते हुए ऐसा किया है।’ एलिस्टेयर 2012 लंदन ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने से पहले चोटिल हो गए थे। चोट के बाद खुद की रिकवरी के लिए एलिस्टेयर ने अपने गॉर्डन में ऐसी ही तकनीक का इस्तेमाल किया था। उन्होंने पुराने दिनों को याद करते हुए कहा, ‘तब वह वास्तव में बहुत महत्वपूर्ण था। मैं छह सप्ताह तक किसी भी तरह की प्रैक्टिस में हिस्सा नहीं ले सकता था। इसका मतलब यह था कि मैं सिर्फ रनिंग कर सकता था, ताकि एकलीस पूरी तरह से रिकवर हो जाए।’

Related Articles

Back to top button