ब्रेकिंग न्यूज़ – एम्स ने कोरोना मरीजों के इलाज के प्रोटोकॉल से रेमडेसिविर हटाया, जानिए कारण – cgtop36.com | Cgtop36 Chhattisgarh exclusive news web portal
देश विदेश

ब्रेकिंग न्यूज़ – एम्स ने कोरोना मरीजों के इलाज के प्रोटोकॉल से रेमडेसिविर हटाया, जानिए कारण

नए प्रोटोकॉल के तहत कम गंभीर बीमारियों वाले कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज में रेमडेसिविर दवा प्रयोग नहीं की जाएगी. पूरे देश में रेमडेसिविर इंजेक्शन को लेकर मारामारी मची हुई है. कई जगह तो रेमडेसिविर के कालाबाजारी की खबरें भी आनी शुरू हो गई हैं. कोरोना संक्रमितों के लिए इलाज के लिए रेमडेसिविर को रामबाण दवा ही मान लिया गया था. वहीं, एम्स ने इन दावों को लगभग नकारते हुए अपने प्रोटोकॉल से इस दवा को हटा दिया है. बता दे की एम्स ने बृहस्पतिवार को कोरोना संक्रमितों के इलाज के अपने प्रोटोकॉल में अहम बदलाव किए. नए प्रोटोकॉल के तहत कम गंभीर बीमारियों वाले कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज में रेमडेसिविर दवा प्रयोग नहीं की जाएगी. वहीं, हल्के रोगों वाले कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज में इनहेलेशनल बुडेसोनाइड का इस्तेमाल किया जाएगा.

READ ALSO – देश में अब 18 साल से ऊपर वाले लोग इस तरह रेजिस्ट्रेशन कर लगवा सकेंगे कोरोना टीका, जाने आसान तरीका

एम्स प्रशासन ने मीडिया को बताया कि प्रोटोकॉल के तहत कोरोना संक्रमितों की तीन श्रेणियां बनाई है. हल्के रोगों वाले, कम गंभीर रोगों वाले व गंभीर रोगों वाले कोरोना संक्रमित मरीज. प्रोटोकॉल के तहत हल्के रोगों वाले कोरोना संक्रमितों का होम आइसोलेशन में इलाज चलेगा. यदि इन मरीजों को सांस लेने में दिक्कत होगी या पांच दिन से अधिक बुखार आएगा या ऑक्सीजन संतृप्ति में बदलाव होता है तो तत्काल चिकित्सकीय सुविधा प्रदान की जाएगी.

READALSO – बड़ा हादसा – अस्पताल में आग लगने से 12 कोरोना मरीजों की मौत, तड़के लगी आग

इन मरीजों के इलाज में आइवरमेक्टिन के साथ पहली बार प्रोटोकॉल में बुडेसोनाइड इनहेलर के प्रयोग की बात कही गई है. पांच दिन से अधिक बुखार या खांसी होने पर चिकित्सकों के परामर्श के बाद ही इन दवाओं का इस्तेमाल किया जाएगा. कम गंभीर रोगों वाले ऐसे कोरोना संक्रमित मरीजों को वार्ड में भर्ती किया जाएगा, जिनका ऑक्सीजन लेवर 93 से कम एवं श्वास गति प्रति मिनट 24 से अधिक होगी.

Related Articles

Back to top button