रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाज़ारी – रेमडेसिविर इंजेक्शन बेचते डाॅक्टर समेत दो गिरफ्तार… इंजेक्शन के लिए तलाश रहे थे ग्राहक… वहीं रायपुर में भी रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाज़ारी करते दो गिरफतार… – cgtop36.com | Cgtop36 Chhattisgarh exclusive news web portal
छत्तीसगढ़दुर्ग

रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाज़ारी – रेमडेसिविर इंजेक्शन बेचते डाॅक्टर समेत दो गिरफ्तार… इंजेक्शन के लिए तलाश रहे थे ग्राहक… वहीं रायपुर में भी रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाज़ारी करते दो गिरफतार…

प्रदेश कोरोना के संक्रमण की दूसरी लहर से जूझ रहा है, ऐसे में कोरोना मरीजों के लिए इलाज में उपयोगी माने जाने वाली रेमडेसिविर की मांग भी काफी बढ़ गयी है। नतीजा ये हो रहा हैं कि अब बाजारों में इसकी कमी पड़ने लगी है। इसी का फायदा उठाकर कुछ लोग मोटा मुनाफा कमाने के लिए इसकी कालाबाजारी में जुट गये है। आप को बता दे की ऐसे ही दो लोगों को ड्रग विभाग की टीम ने रंगे हाथों पकड़ा है। दोनों आरोपी कोरोना पीड़ित के परिजनों से मोटी रकम लेकर रेमडेसिविर इंजेक्शन बेचा करते थे। पकड़े गये आरोपियों में कुलेश्वर पटेल और पीयुष शुक्ला है।

READ ALSO – बलौदाबाजार – इस बार पुलिस को नहीं चलाना पड़ रहा है डंडा जनता ने खुद स्वीकार किया लॉक डाउन

मिली जानकारी के अनुसार खाद्य एवं औषधि प्रशासन विभाग दुर्ग की टीम को भिलाई के आकाश गंगा सुपेला क्षेत्र में रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी की सूचना मिली. इसके बाद आरोपियों के पास अधिकारी पहुंचे. घटना बीते शुक्रवार की शाम करीब सात बजे की है. खाद्य एवं औषधि प्रशासन विभाग दुर्ग के निरीक्षक ब्रजराज सिंह ने बताया कि विभाग को सूचना मिली थी कि आकाश गंगा सुपेला क्षेत्र में कुछ लोग रेमडेसिविर वैक्सीन की कालाबाजारी कर रहे हैं. अफसरों ने किया संपर्क सूचना पर खाद्य एवं औषधि प्रशासन विभाग के अधिकारी ने ग्राहक बनकर उक्त व्यक्तियों से संपर्क किया.

READ ALSO – इंस्पायर अवार्ड मानक योजना में छत्तीसगढ़ को देश में तीसरा स्थान

कालाबाजारी करने वालों ने एक वैक्सीन को 13,000 रुपये में बेचने की बात कही. जबकि बाजार में एक वैक्सीन की कीमत 4,800 रुपये है. कुलेश्वर से सौदा तय होने पर उससे अफसरों ने दो इंजेक्शन 26 हजार रुपये में खरीदा. उसे रंगे हाथ पकड़ने के बाद जब अफसरों ने उससे पूछताछ की तो कुलेश्वर ने बताया कि कुछ दूरी पर खड़े पीयूष शुक्ला ने उसे यह इंजेक्शन दिया. अफसरों ने पीयूष को पकड़ा तो उसके पास से दो इंजेक्शन और मिले. पीयूष का कहना था कि उसने यह इंजेक्शन अपने पिता के लिए खरीदा था। चार इंजेक्शन बच गया था उसे ही बेच रहा था. दोनों आरोपी बजरंग पारा कोहका क्षेत्र के रहने वाले हैं.

READ ALSO – इनडोर स्टेडियम में 20 कोरोना संक्रमितों की मौत से साफ़ हो गया कि प्रदेश सरकार कोरोना रोकने में आधे-अधूरे मन से काम कर रही : भाजपा

पीयूष शुक्ला स्वयं को जगदलपुर मेडिकल कालेज का डाक्टर बता रहा है. मामले में खाद्य एवं औषधि प्रशासन विभाग द्वारा दोनों व्यक्तियों के खिलाफ ड्रग अधिनियम के तहत कार्रवाई की जा रही है. आरोपियों ने बताया कि कई लोग अपने परिवार के संक्रमित व्यक्ति के लिए रेमडेसिविऱ वैक्सीन की जरूरत होना बताते हुए सोशल मीडिया में पोस्ट कर रहे थे, जिसमें यह पूछ रहे थे कि वैक्सीन कहां मिल सकती है. आरोपी वैक्सीन के जरूरतमंद लोगों के मोबाइल नंबर पर फोन कर उनसे संपर्क भी करते थे. विभागीय अधिकारी इनसे यह भी जानने का प्रयास कर रहे हैं कि आरोपियों ने किसी को वैक्सीन बेची तो नहीं है.पर आरोपी कुछ भी नहीं बताया।

Related Articles

Back to top button