छत्तीसगढ़ – कोरोना संक्रमित 300 परिवारों को पुलिस विभाग ने राशन फल सब्जी, दवाई देकर बचाई जान – cgtop36.com | Cgtop36 Chhattisgarh exclusive news web portal
छत्तीसगढ़रायपुररायपुर संभाग

छत्तीसगढ़ – कोरोना संक्रमित 300 परिवारों को पुलिस विभाग ने राशन फल सब्जी, दवाई देकर बचाई जान

राजधानी में लॉकडाउन के पहले तकरीबन 300 से ज्यादा परिवारों को राशन फल सब्जी दवाई की मदद कर कोरोना काल में पुलिस जीवन रक्षक दूत के रूप में पीडि़त परिवारों की सेवा कर रहा है। कोरोना पीडि़त परिवार उनके इस सेवा कार्य की शब्दों में बयान नहीं कर पा रहे है बल्कि उन्हें भरे गले से जीवन रक्षक दूत संबोधित कर रहे है। यह पुलिस का पॉजिटिव चेहरा संकटकाल में सभी का विश्वास जीतने में कामयाब हो गया है। लोग अपनी पीड़ा सीधे पुलसि को बता रहे है और पुलिस के जवान उन्हें दवाई से लेकर राशन उपलब्ध करा रहे है। बता दे कि जिनमें से ज्यादातर लोग कोरोना मरीज निकलने की वजह से उन्हें आइसोलेट किया से वजह से उनका परिवार राशन सहित जरूरी सामान नही खरीद सके और बाजार बंद हो गए ।

READ ALSO – छत्तीसगढ़ – कोरोना संक्रमित परिवार में राशन की समस्या, प्रशासन से मदद की अपील

ऐसे लोगों ने पुलिस को फोन पर अपनी मजबूरी बताई कि हमारे घर में भूखों मरने की स्थिति उत्पन्न हो गई है। घर में दाल-चावल से लेकर फल सब्जी के साथ रोजमर्रा को संकट पैदा हो गया है। घर में रिश्तेदार बी नहीं आ रहे है। इस वजह से ऐसे दर्जनों परविार पुलिस और प्रशासन के अफसरों को फोन कर अपनी मुश्किलों को बता रहे है। कुछ मामलों में पुलिस प्रशासन ने ऐसे घरों तक मदद भेजी है लेकिन यह संकट अब और गहरा रहा है। आजाद नगर टीआई सत्यप्रकाश ने बताया कि रविवार को उनके पास समता कालोनी के एक परिवार से फोन आया. इस परिवार के 7 लोग लॉकडाउन से दो दिन पहले पाडिटिव हुए और निगम ने उनका घर बंद कर दिया। परिवार के सभी लोगों को आइसोलेट रहने के लिए कहा गया. इस परिवार के लोगों ने संकट बढञने पर आजाद चौक थाने में फोन किया और अपनी मुश्किल बताई ।

READ ALSO – छत्तीसगढ़ – शराबियों की वजह से लॉकडाउन पर पड़ रहा असर, गांव में बेच रहा था देशी शराब पुलिस ने किया गिरफ्तार

पुलिस ने तत्कालिक राहत के तौर पर घर में थोड़ा राशन भिजवाया । कोटा में भी एक परिवार को सरस्वती नगर पुलिस ने राशन और डेली नीड्स का सामान उपलब्ध करवाया। ऐसे परिवार दूध और दवाइयों के लिए भी पुलिस और प्रशासन से गुहार लगा रहे है और पुलिस के जवान जीवन रक्षक दूत बनकर लोगों की सेवा करने में डटे हुए है? एसएसपी अजय यादव ने बताया कि सभी टीआई को निर्देश दिया गया है कि जरूरतमंद लोगों की मदद की जाए. अगर कोई थाने में फोन करके मदद मांगते है तो उन्हें राशन से लेकर फल, दवाई उपलब्ध कराया जाए। एसएसपी यादव ने बताया कि गोलबाजार पुलिस ने कई लोगों की अंत्येष्टि का सामान दिलवाया है। अस्पताल से छुट्टी के बाद गाड़ी के लिए बी पुलिस को फोन कर रहे है। उनकी मदद भी की जा रही है। लॉकडाउन में संकरी गली हो रहे गुले गुलजार राजधानी केकई गली मोहल्ले में जहां बांस बल्ली लगाकर बेरिकेटिंग कर दिए गए है, वहां से गली-मोहल्ले गुले गुलजार हो रहे है।

READ ALSO – आंधी बारिश की छत्तीसगढ़ सहित इन राज्यों में आशंका, जानें मौसम का हाल

अंदर की गलियों में सभी दुकान खुले हुए है जहां लॉकडाउन जैसा माहौल ही नहीं है। ऐसा लगता है आम दिनों की तरह चहल-पहल और सभी जरूरत के सामान आसानी से मिल रहे। वहां के लोगों ने बताया कि पुलिस और निगम में बेरिकेटिंग कर दी जिसके कारण यहां तक पुलिस वाले खुद नहीं पहुंच पाते जिसके कारण सभी दुकान खुले है। चाय-पान सिगरेट से लेकर रोजमर्रा के सामान बिना मशक्कत के 24 घंटे मिल रहे है। कोरोना काल लॉकडाउन में छग पुलिस बना जीवनरक्षक दूत खुद की परवाह किए बगैर कर रहे सेवा पुलिस के जवान संकटकाल में खुद की परवाह किए बगैर पीडि़त लोगों की मदद कर रहे है। राजधानी में 38 से ज्यादा पुलिस वाले कोरोना पॉजिटिव है। इसमें 3 थानों से टीआई से लेकर सिपाही शामिल है। दो पुलिस की इलाज के दौरान शनिवार को मौत भी हो गई। कुछ थानों में एक साथ 5-6 पुलिस वाले पॉजिटिव निकले हैं, लेकिन थाने को बंद नहीं किया गया है। थाने को सेनिटाइज करने के बाद खोल दिया गया है।

READ ALSO – नगर पालिका अधिकारी द्वारा वीआईपी ट्रीटमेंट न देने पर डॉक्टर से दुर्व्यवहार, डॉक्टर ने पत्र लिख किया ये मांग

पुलिस वालों का बेहतर इलाज हो सके, इसलिए डीएसपी लाइन को नोडल अधिकारी बनाया गया है। एसएसपी अजय यादव ने बताया कि डीएसपी लाइन मणीशंकर चंद्रा को नोडल अधिकारी बनाया गया है। रायपुर में जो भी पुलिस वाले कोरोना पॉजिटिव होंगे, वे उन्हें फोन पर सूचना देंगे। सभी टीआई को भी निर्देश दिया गया है कि उनके थाने में जो भी स्टाफ पॉजिटिव आ रहे हैं। उसकी सूचना डीएसपी लाइन को दे। उनका नंबर नोट कराए। ताकि उनका अच्छे से इलाज हो सके। उन्हें अस्पताल में बेड मिल जाए। डीएसपी लाइन पीडि़त पुलिस वाले के संपर्क में रहेंगे। रोज उनके इलाज की जानकारी लेंगे और जो भी उन्हें जरूरत होगी। वे पूरा कराएंगे। एसएसपी यादव ने ड्यूटी कर रहे सभी पुलिस वालों से निर्देश दिया है कि वे सुरक्षित होकर ड्यूटी करें। आप को बता दे कि भीड़भाड़ में जाने से बचे। लोगों से दूरी बनाकर रखे। हमेशा मास्क लगाए और सेनिटाइजर लेकर चले। उन्होंने सभी अधिकारियों को निर्देश दिया है कि वे अपने स्टाफ की सुरक्षा का ध्यान रखे। स्टाफ के लिए मास्क और सेनिटाइजर की व्यवस्था करें। थाने और पुलिस गाडिय़ों को सेनिटाइज कराते रहें।

Related Articles

Back to top button