बीजापुर – जानें नक्सली हमले के मास्टर माइंड हिड़मा के बारे में, फिलीपींस में ली है गुरिल्ला वॉर की ट्रेनिंग – cgtop36.com | Cgtop36 Chhattisgarh exclusive news web portal
CGTOP36छत्तीसगढ़बस्तर संभागबीजापुर

बीजापुर – जानें नक्सली हमले के मास्टर माइंड हिड़मा के बारे में, फिलीपींस में ली है गुरिल्ला वॉर की ट्रेनिंग

बीजापुर-सुकमा जिले के बॉर्डर पर सुरक्षाबलों और नक्सलिओं के बीच हुई मुठभेड़ के दौरान हुए हमले का मास्टर माइंड 38 साल का माओवादी कमांडर Madvi Hidma था, जिसके कारण 22 सैनिकों की जान चली गई और कई जवान घायल हो गए। वह CPI (maoist) की पहली सैन्य बटालियन का प्रमुख भी है।

बताया जा रहा है कि “हिडमा (Bijapur naxal attack) ने सुरक्षा बलों को फंसाने की योजना बनाई थी , लेकिन जब ड़ेढ़ हफ़्तों तक सुरक्षा बल इलाके में नहीं पहुंचे, तो इस से हताश होकर हिडमा ने बस्तर के अलग-अलग हिस्सों से 300 से ज्यादा सशस्त्र कॉमरेड बुलाए जो मुठभेड़ वाली जगह के पास में ही इकट्ठा थे।”

बस्तर में सबसे खूंखार माओवादी नेताओं (Madvi Hidma) में से एक माना जाने वाले हिडमा का जन्म साउथ सुकमा के पुरवती गांव में हुआ था, इसे हिडमालु और संतोष के नाम से भी जाना जाता है। बेहद बेरहम इंसान के रूप में मशहूर हिडमा (Madvi Hidma) इलाके में मुखबिरों का एक नेटवर्क चलाता है। हिडमा बस्तर के मुरिया आदिवासी कम्युनिटी से ताल्लुक रखता है। उसका गांव अभी भी पुलिस की सीमा से बाहर है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक हिडमा (Madvi Hidma) ने फिलीपींस में गुरिल्ला वॉर की ट्रेनिंग ली है और ये भी माना जाता है कि इसने पिछले दशक में कई हमले किए हैं। एक पुलिस अफसर ने बताया, “बस्तरिया के मुरिया आदिवासी (Muriya Trouble) बेहद बेरहम और हमलावर होते हैं। हिडमा को एक रिज़र्व पर्सन के रूप में जाना जाता है, जो मीडिया की चकाचौंध से बचता है। एक पत्रकार जिसने कई साल पहले उससे मिलने का दावा किया था, उसने कहा कि वह किसी ऐसे व्यक्ति की तरह है, जो बहुत कम बोलता है। उसकी सिक्योरिटी के अंदर के घेरे में हथियार-बंद युवक होते हैं, जिनमें ज्यादातर उसके बचपन के दोस्त होते हैं।

Related Articles

Back to top button