जशपुर – नसबंदी के बाद महिलाओं को छोड़ने वाहन नहीं पर कर्मचारी शराब लेने जरूर पहुंचते हैं सरकारी वाहन से, दो तस्वीरों ने खोल दिया स्वास्थ्य विभाग की पोल – cgtop36.com | Cgtop36 Chhattisgarh exclusive news web portal
CGTOP36छत्तीसगढ़जशपुरसरगुजा संभाग

जशपुर – नसबंदी के बाद महिलाओं को छोड़ने वाहन नहीं पर कर्मचारी शराब लेने जरूर पहुंचते हैं सरकारी वाहन से, दो तस्वीरों ने खोल दिया स्वास्थ्य विभाग की पोल

जशपुर जिले में स्वास्थ्य सेवाओं की कई लचर तस्वीरें आपने देखीं होंगी लेकिन आज हम आपको दिखाएंगे की स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी किस तरह से सरकारी वाहनों का दुरुपयोग कर रहे

अजय सूर्यवंशी जशपुर :- जशपुर जिले में स्वास्थ्य सेवाओं की कई लचर तस्वीरें आपने देखीं होंगी लेकिन आज हम आपको दिखाएंगे की स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी किस तरह से  सरकारी वाहनों का दुरुपयोग कर रहे हैं।तीन दिन पहले जिला चिकित्सालय में नसबंदी के बाद महिलायें वाहन नहीं मिलने से एक किलोमीटर पैदल चलकर बस स्टैंड पहुँची और बस स्टैंड में ऑपरेशन के तुरंत बाद पैदल चलने की वजह से तड़पती दिखाई दीं तो वहीं दूसरी ओर स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी सरकारी वाहन में अंग्रेजी शराब दुकान शराब खरीदने पहुंच रहे हैं।

Read Also – जशपुर में स्वच्छ भारत मिशन कार्यक्रम को लग रहा पलीता, चौक चौराहों पर गंदगी ही गंदगी, आबंटित राशि का क्या हो रहा बंदरबांट??

आप स्क्रीन पर दो तस्वीरें देखिए एक तस्वीर में जिला चिकित्सालय में नसबंदी के बाद पैदल बस स्टैंड चलकर पहुँची महिलाएं तड़पती हुई दिखाई दे रहीं हैं तो वहीं दूसरी तस्वीर में उसी स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी जिला मुख्यालय में अंग्रेजी शराब दुकान शराब लेने पहुँचे हैं।दूसरी तस्वीर में दिख रहा व्यक्ति सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लोदाम का कर्मचारी लिबनुस तिग्गा है जो सारे नियम कानून को ताक पर रखकर अंग्रेजी शराब दुकान में सरकारी वाहन में शराब लेने पहुँचा है।तस्वीरों में देखिए कि किस तरह बेशर्मी से यह कर्मचारी अपना परिचय बता रहा है और शराब की बोतल दिखा रहा है।

बता दें कि दरअसल 22 मार्च को पत्थलगांव की 50 से अधिक महिलाओं को नसबंदी के लिए जिला अस्पताल बुलाया गया था जिसके बाद सुबह से लेकर शाम तक महिलाओं को भूखे प्यासे इंतजार कराया गया लेकिन ऑपरेशन करने वाली डाक्टर अस्पताल नहीं पहुँचीं।जिससे नाराज होकर महिलाओं ने देर रात कलेक्टर बंगले का घेराव कर दिया।जिसके बाद कलेक्टर के आदेश के बाद रात से ही सभी महिलाओं का ऑपरेशन शुरू हुआ।

Read Also – जशपुर – स्वास्थ्य अमले की बड़ी लापरवाही आई सामने, नसबंदी के बाद छोड़ दिया महिलाओं को ऐसे ही, किलोमीटर भर पैदल चलकर पहुंची बस स्टैंड

इनमें से कई महिलाओं का 23 मार्च को भी ऑपरेशन हुआ लेकिन ऑपरेशन के बाद स्वास्थ्य विभाग की एक और लापरवाही सामने आई जिसमे ऑपरेशन के तुरंत वाद महिलाओं को उनके गन्तव्य जाने कोई साधन उपलब्ध नहीं कराया गया जिसकी वजह से महिलाये जिला अस्पताल से 1 किलोमीटर पैदल चलकर बस स्टैंड पहुँची जहाँ पैदल चलने की वजह से तड़पती दिखाई दीं। स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही को लेकर स्थानीय लोगों में आक्रोश है वहीं भाजपा स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही को लेकर आंदोलन की तैयारी में है वहीं कलेक्टर ने दोषियों को कारण बताओ नोटिस जारी किया है।

Read Also – जशपुर ब्रेकिंग – देर रात 50 से अधिक महिलाओं ने कलेक्टर बंगले का किया घेराव, नही हुई नसबंदी तो महिलाओं में आक्रोश

स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी की मनमानी से स्थानीय लोगो में नाराजगी है स्थानीय लोगों का मानना है कि जब नसबंदी कराने के बाद महिलाओं को वाहन नहीं मिल पाता और महिलाये पैदल चलकर तड़प रही हैं वहीं दूसरी तरफ कर्मचारियों का स्वास्थ्य विभाग के गाड़ी में शराब लेने जाना कहीं ना कहीं प्रशासनिक कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े करता है। वहीं आदिवासियों के हित की लड़ाई लड़ने वाले संगठन जनजातीय सुरक्षा मंच ने इस मामले में दोषियों पर कार्रवाई नहीं होने पर बड़े आंदोलन की चेतावनी दी है। वहीं जिले के कलेक्टर का कहना है कि जाँच के बाद दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी।

Related Articles

Back to top button