छत्तीसगढ़ में कोरोना की दूसरी लहर पर केंद्र सरकार की नज़र, राममनोहर लोहिया अस्पताल के डॉक्टर पहुंचे छत्तीसगढ़, केंद्रीय टीम ने दी यह सलाह – cgtop36.com | Cgtop36 Chhattisgarh exclusive news web portal
CGTOP36छत्तीसगढ़सरगुजासरगुजा संभाग

छत्तीसगढ़ में कोरोना की दूसरी लहर पर केंद्र सरकार की नज़र, राममनोहर लोहिया अस्पताल के डॉक्टर पहुंचे छत्तीसगढ़, केंद्रीय टीम ने दी यह सलाह

सोनु केदार – छत्तीसगढ़ में कोरोना की दूसरी लहर पर केंद्र सरकार भी नज़र बनाई हुई है। प्रदेश में एकाएक बढ़े कोरोना संक्रमितों की संख्या को देखते हुए केंद्रीय टीम प्रदेश के 11 जिलों का निरीक्षण करने पहुंची है। वही सरगुजा में दिल्ली से आई दो सदस्यीय टीम बीते 3 दिनों से हालात का जायजा ले रही है। निरीक्षण करने पहुंची केंद्रीय टीम ने अंबिकापुर के नागरिकों को सलाह दी है कि यदि मुह पर ताला लगाएंगे तो नहीं होगी तालाबंदी।

छत्तीसगढ़ में इन दिनों कोरोना की दूसरी लहर की वजह से हालात बिगड़ते दिख रहे है। प्रदेश के कई जिलों में लॉकडाउन लगा दिया गया है। सरगुजा में कलेक्टर ने नाइट कर्फ्यू की समय सीमा बढ़ाकर शाम 6 बजे से सुबह 6 बजे तक कर दिया है। जबकि प्रदेश में बिगड़े हालात पर केंद्र सरकार भी नज़र बनाई हुई है। कोरोना प्रभावित 11 जिलों का निरीक्षण करने केंद्रीय टीम छत्तीसगढ़ पहुंची। वहीं दिल्ली से आई 2 सदस्य टीम सरगुजा जिले का बीते 3 दिनों से निरीक्षण कर रही है।

इस टीम में दिल्ली के राममनोहर लोहिया अस्पताल के डॉक्टर आरके गुप्ता और कोलकाता से आए डॉ अमिताभा दान शामिल है। केंद्रीय टीम द्वारा कोरोना संबंधित एक एक पहलू पर जांच एवं निरीक्षण कर रिपोर्ट तैयार किया जा रहा है। कोरोना की जांच, कांटेक्ट ट्रेसिंग, अस्पतालों में बेड की स्थिति, वायरोलॉजी लैब की छमता सहित जिला प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा बनाई गई रणनीति पर भी केंद्रीय टीम रिपोर्ट तैयार कर रही है। यही नहीं ग्रामीण क्षेत्रों का जायजा लेने भी केंद्रीय टीम पहुंचेगी।

दिल्ली से निरीक्षण करने अंबिकापुर आए केंद्रीय टीम के सदस्य डॉ अमिताभा दान ने एक तरफ जहां कोविड जांच एवं वायरोलॉजी लैब की क्षमता को लेकर स्वास्थ्य विभाग की प्रसंसा की। वहीं लोगों द्वारा बरती जा रही लापरवाही को कोरोना के विस्तार का सबसे बड़ा कारण बतयता है।

उन्होंने कहा कि निरीक्षण के दौरान केंद्र टीम ने पाया कि अंबिकापुर में मात्र 50 प्रतिशत लोग मास्क का उपयोग करते हैं। जबकि जिला प्रशासन को और भी सख़्ती बढ़ानी चाहिए। कोविड की दूसरी लहर के चेन को तोड़ने के लिए जिस स्तर पर जागरूकता अभियान चलाना चाहिए वैसा होता नहीं देख रहा है। इसके अलावा डॉ अमिताभा दान ने कहा कि जिला स्वास्थ्य अधिकारी को भी निर्देशित किया गया है कि हॉट स्पॉट एरिया को डिटेक्ट करे। वहीं उन्होंने कहा कि जिले में अभी लॉकडाउन जैसी स्थिति नही बनी है।

केंद्र टीम के सदस्य डॉ. आरके गुप्ता का कहना है कि लॉकडाउन के बजाय लोक मास्क लगाकर अपने मुंह और नाक को लॉक करें। कोविड-19 की दूसरी लहर से बचने का एक ही उपाय मास्क, यदि कोरोना की चीन को तोड़ना है तो नागरिकों को जागरूक होना पड़ेगा। साथ ही उन्होंने कहा कि कोविड-19 के मरीजों की संख्या कम होने के बाद सुविधाओं में भी कमी कर दी गई थी। लेकिन जो परिस्थिति निर्मित हो रही है उसे देखते हुए एक बार फिर सुविधा एवं संसाधनों को बढ़ाने की जरूरत है। इसके अलावा डॉ आरके गुप्ता ने कहा कि पहले से लहर से ज्यादा कोरोना की दूसरी लहर प्रभावशाली है। जिस वजह से संक्रमित मरीजों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है। उन्होंने कहा कि दूसरी लहर से निपटने के लिए युद्ध स्तर पर रणनीति बनाकर कार्य करना होगा। तब जाकर कोरोना वायरस पर काबू पाया जा सकेगा।

बहरहाल केंद्र से आये डॉक्टरों की राय से आप भी समझ ही गए होंगे कि तालाबंदी से ज्यादा मास्क लगाना अनिवार्य है। तब जाकर कोरोना की दूसरी लहर पर काबू पाया जा सकेगा। CGTOP36 भी अंबिकापुर के नागरिकों से अपील करता है कि 2 गज की दूरी और मास्क है जरूरी का फार्मूला अपनाकर प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग का सहयोग करें।

Related Articles

Back to top button