जानें कब है हनुमान जयंती, महत्व शुभ मुहूर्त और कैसे करें बजरंगबली को प्रसन्न – cgtop36.com | Cgtop36 Chhattisgarh exclusive news web portal
राशिफल - अध्यात्म

जानें कब है हनुमान जयंती, महत्व शुभ मुहूर्त और कैसे करें बजरंगबली को प्रसन्न

हनुमान जी का जन्म चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी तिथि को हुआ था. इस लिए हर साल इस तिथि को प्रभु श्री हनुमान जी का जन्मदिवस मनाया जाता है. इस साल यह तिथि 27 अप्रैल 2021 को पड़ रही

अंजनी पुत्र प्रभु श्री हनुमान जी का जन्म चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी तिथि को हुआ था. इस लिए हर साल इस तिथि को प्रभु श्री हनुमान जी का जन्मदिवस मनाया जाता है. इस साल यह तिथि 27 अप्रैल 2021 को पड़ रही है. इसलिए इस बार 27 अप्रैल को ही प्रभु श्री हनुमान जी का जन्मदिवस मनाया जाएगा।

इस दिन हनुमान जी को प्रसन्न करने के लिए भक्त, रामायण, रामचरित मानस का अखंड पाठ, सुंदरकांड का पाठ, हनुमान चालीसा, बजरंग बाण, हनुमान बाहुक का पाठ करते हैं. प्रभु हनुमान जी, भगवान श्री राम के बहुत बड़े भक्त थे और उन्होंने अपनी भक्ति और शक्ति के साथ, भगवान श्री राम को रावण के साथ युद्ध करने में मदद की थी।

हनुमान जयंती का महत्व

प्रभु श्री हनुमान जी के भक्त पूरी श्रद्धा से इस दिन का इंतजार करते हैं. शास्त्रों के अनुसार आज भी प्रभु हनुमान जी पृथ्वी पर वास करते हैं और उन्हें अमरत्व का आशीर्वाद प्राप्त है. सूर्यपुत्र और भगवान शिव जी के अंश अवतार प्रभु हनुमान की रोजाना पूजा करने से जीवन में संकटों से मुक्ति मिलती है. भगवान हनुमान को कई नामों से भी जाना जाता था जैसे- मारुति, रुद्र, संकट मोचन, बजरंगबली, अजंनस्य, महाबली, मरघट वाले बाबा जी आदि. प्रभु हनुमान भगवान शिव जी के 11वें अवतार थे. उनकी पूजा बॉडीबिल्डरों और पहलवानों के जरिए भी की जाती है और वो इस शुभ दिन पर उनकी पूजा- अर्चना करते हैं. हनुमान जी की आराधना करने से भूत-प्रेत, बाधा, नकारात्मक ऊर्जा, मरण से मुक्ति मिलती है।

हनुमान जयंती पर इन चीजों से करे प्रसन्न

हनुमान जी को खुश करने के लिए चोला चढ़ाना ,सुगन्धित तेल और सिंदूर चढ़ाना चाहिए. साथ ही रामचरित मानस का अखंड पाठ, सुंदरकांड का पाठ, हनुमान चालीसा, बजरंग बाण, हनुमान बाहुक का पाठ करना फलदायी माना जाता है.

हनुमान जयंती शुभ मुहूर्त

इस बार हनुमान जयंती मंगलवार के दिन पड़ने के वजह से इसका महत्व और बढ़ रहा है. पूर्णिमा तिथि 26 अप्रैल को दोपहर 12 बजकर 45 मिनट से शुरू होगी, जो कि 27 अप्रैल की सुबह 09 बजकर 5 मिनट तक रहेगी।

Related Articles

Back to top button